Skip to main content

मुझे मेरी पत्नी ने मार डाला - My wife killed me

मुझे मेरी पत्नी ने मार डाला, एक  बहुत ही दुखी करने वाली सत्य घटना है।शायद आप ने भी कभी देखा या सुना होगा। 

क्या मैं ठीक कह रहा हूँ ?

मेरा एक दोस्त अपनी पत्नी के साथ रहता था पर दोनों में छोटी मोटी नोंक झोंक होती रहती थी, पर उन्होंने कभी भी एक दूसरे से ज्यादा देर तक दूर नहीं रहते थे। 

कुछ समय बाद मेरे दोस्त की पत्नी की नौकरी लग गयी। और मेरे दोस्त ने बहुत ख़ुशी मनाई।

पर उसको क्या पता था कि अब उसकी पत्नी उससे ज्यादा पैसों से प्यार करने लगी है।  बस अब तो रोज़ ही घर में लड़ाई - झगड़ा होने लगा। 

उसका एक कारण यह भी था कि मेरे दोस्त की नौकरी चली गयी पर फिर भी उसने हिम्मत नहीं हरी और अपना काम शुरू कर लिया।  पर किस्मत को जैसे यह भी मंज़ूर नहीं था और उसका काम बिलकुल ही बंद हो गया। 

अब तो बस उन दोनों में जैसे दराड़ सी पड़  गई हो।  बात बात पर मेरे दोस्त की पत्नी उसे कोसती रहती थी और मेरा दोस्त बस अपने आप में ही रहने लग गया था। 

उसकी पत्नी कहती कि तुमने इतने सालों में किया ही क्या है उसके लिए, इतने सालों में कुछ कमाया है क्या और मेरा दोस्त बस चुप हो जाता क्योंकि ये या तो वही जनता है या मैं क्योंकि वो मुझसे हर बात शेयर करता था। 

मेरे दोस्त ने जितना कमाया था वो सब तो उसकी पत्नी के इलाज में खर्च होता रहता था पर उसने कभी अपनी पत्नी को कुछ नहीं बताया।  बस पहली ग़लती यह थी मेरे दोस्त की। 

दूसरी गलती यह थी कि अपनी पत्नी की सारी कमाई पत्नी के नाम पे जमा करवाता रहा और कभी कुछ नहीं माँगा क्योंकि अगर कभी थोड़े बहुत रुपए मांगता तो भी उसकी पत्नी सुना देती। 

रोज़ - रोज़ के ताने सुनके मेरा दोस्त थक चूका था और वही  हुआ जिसका डर था। 

बेचारा करता क्या, बस चला गया किसी को बिना कुछ बताए। बिना कोई पैसे लिए, बिना कोई कपडे लिए। 

बस , जाने से एक दिन पहले मुझे  मिला था और कह  रहा था कि बस अब बर्दाश्त नहीं होता।  तो मेने उसे कहा कि हिम्मत मत हार सब ठीक हो जाएगा। उसने कहा कि कुछ ठीक नहीं होगा। 

मुझे मेरी पत्नी ने मार डाला  - My wife killed me

ये उसकी आखरी लाइन थी जो मेने उसकी भीगी आँखों और कांपती आवाज़ में सुनी थी।  बस वो दिन था जब मेने उसे आखरी बार देखा था। उसके परिवार का आगे क्या हुआ ये तो पता नहीं क्योंकि अब मेने भी वहां जाना छोड़ दिया था। 

ज़िन्दगी की गाड़ी तभी चलती है जब दोनों पहिए एक समान हों, नहीं तो गाड़ी का हाल मेरे दोस्त की ज़िन्दगी जैसा हो जाता है। 

अब अलविदा दोस्तों !!! फिर आऊंगा एक नई, सच्ची और अच्छी कहानी के साथ। 








Comments

Popular posts from this blog

रौशनी - The Light

दोस्तो, आज मैं आपको एक अपनी लिखी हुई कविता से रूबरू करवाता हूँ। यह कविता मेने साल नवम्बर 14, 2000 में लिखी थी। 
उस दिन पंडित जवाहरलाल नेहरू का जन्म दिन था और संयोगवश दिपावली भी उस दिन थी। और उस रात मैं अपने घर की छत पर बैठ कर जगमगाती रौशनी का लुत्फ़ उठा रहा था कि 
मेरा मन कुछ उदास था उसदिन। अचानक मुझे यह कविता सूझी।

मेरी कविता का शीर्षक है "रौशनी"जग मग - जग मग जुगनू  जैसी।  चाँद की हो रौशनी।।
रंग - बिरंगे फूलोँ जैसी। तारों की हो रौशनी।।
मन को भाए - सब  को भाए।  किन दीपों की हो रौशनी।।
कभी तो हसाए - कभी तो रुलाए।  जाने कैसी हो तुम रौशनी।।
अगर आप को यह कविता अच्छी लगी तो कृपया अपने विचार लिखें। 

बदलते रिश्ते - The Changing Relations

बदलते रिश्ते - एक कड़वा सच जो आपको सोचने पर मजबूर कर देगा।जी हाँ, यह  सिर्फ मेरी नहीं बल्कि हम सब की है।  और जहाँ तक मेरा ख्याल है, ऐसा सिर्फ भारत में ही होता है। 
क्या कभी आपने सोचा है कि आपके परिवार वाले भी आपके खिलाफ साज़िश कर सकते है।  मैं दावे के साथ कह सकता हूँ के नहीं। 
पर यह सब सच है - एक कड़वा सच जो आपकी ज़िन्दगी बदल देगा और सोचने पर मज़बूर कर देगा कि क्या यही ज़िन्दगी है। 
मैं हर वख्त दूसरों के बारे में ही सोचता रहा और अपनी ज़िन्दगी बर्बाद कर ली। पर सब यही कहते हैं की तूने किया है।  लोग दूसरों का दिमाग तो पढ़ लेते हैं पर मेरा दिल कोई नहीं पढ़ पाया। 


अब तो मेरा दिल बस यही कहता है कि :- पंछिओं को आसमान से गिरते देखा है, अपनों के हाथों से अपनों को गिराते देखा है।  *-*-* लोग बेदर्द है जो अपने दिमाग से सोचते हैं, उम्र गुज़ार दी दिल से सोचते - सोचते, पर अफ़सोस,  मेने अपने रिश्तों को फिर भी बदलते देखा है। *-*-* क्या ये ही ज़िन्दगी है,  कि लोग एक पल में साथ छोड़ देते हैं, बीच सफर में अपने हाथ छोड़ देते हैं, ज़िंदगी का तो पता नहीं,  मेने मौत को साथ निभाते देखा है।  *-*-* उम्मीदों को पलते देखा है,  और सपनो को करवटें बद…

सच की कलम से - By the Pen of Truth

सच की कलम से, सुनने में तो अच्छा लगता है, पर क्या कलम सच बोलती है?

जरा सोचिए और बताइए क्या सच में कलम सच बोलती है? आज कल तो कलम वही लिखती है जो उससे लिखवाया जाता है। और वो ही लिखती है जिससे उसको लिखवाने वाले को कुछ फायदा होता है। 
क्यों मैं सच कह रहा हूँ ना? अगर हाँ तो अपने विचार मेरे साथ शेयर जरूर करें।  क्योंकि इस मुद्दे पर आपकी छोटी सी टिप्णी बहुत गहरा प्रभाव दाल सकती है। विश्वास कीजिए। 
कलम बैचारी कुर्सी की मारी। शायद ये मोहावरा तो आपने सुना ही होगा। हाँ थोड़ा सा हटके जरूर है पर करता तो कलम की मजबूरी को ब्यान ही है ना। 
आप को नहीं लगता के कलम अब ग़लत  हाथों में है ? अगर आप मेरे सवालों से इत्तेफ़ाक़ रखतें हैं या आप कुछ रौशनी डालना चाहते हैं तो अपने विचार जरूर शेयर करें। 
आपका अपना क्रिएटिव राईटर,
महेन्दर पॉल वर्मा  एडमिन  रियल हिंदी स्टोरीज