Skip to main content

साया - The Shadow

कभी किसी ने अपने साये से बात की है ?
मैं अक्सर करता हूँ। 
क्योंकि मेरा साया ही मेरी पहचान है। 
मेरा साया ही मेरा दोस्त, रिश्तेदार है। 
आज मैं सचमे अकेला हूँ। 
क्या यही ज़िन्दगी है?
अगर हाँ तो नहीं चाहिए ऐसी ज़िन्दगी जो किसी को अपना न बना सकी। किसी को अपने ज़ख्म दिखला ना सकी। 
बस अब बर्दाश्त नहीं होता। 
ख़त्म कर दो इस खोखली ज़िन्दगी को। 

कुछ देर अपने आप से बातें करके, मेरे अंदर से एक आवाज़ आई  मेने सुना कि मेरा साया  मुझसे बात कर रहा है और उसके सवालों ने मुझे झिंझोड़ कर रख दिया।

मेरे साये ने मझे रुकने को कहा और मुझसे पूछा:-
रुको,
ये तुम क्या कर रहे हो?
अपने आपको खत्म करने की सोच रहे हो। 
क्या कोई है जो तुम्हारी ज़िन्दगी से ज्यादा प्यारा है?
क्या कोई है, जिसके बगैर तुम जी नहीं सकते?

मेने कहा हाँ - हाँ कोई है जो मेरे बगैर नहीं जी सकता और मैं भी उसके बगैर नहीं जी सकता। मेरी ज़िन्दगी तो उसके लिए ही है। 

यह सुनकर मेरा साया ज़ोर से हंस पड़ा और मेरी आँखों से ओझल हो गया। 

अब मैं भी यह सोच रहा हूँ कि मैं क्या करने जा रहा था। मेरी ज़िन्दगी तो मेरी है ही नहीं। क्योंकि मेरी ज़िन्दगी तो मेरी बेटी की अमानत है। इस्पे मेरा कोई हक़ नहीं है। 
*_*_*_*_*_*_*_*_*_*_*_*_*_*_*


दोस्तो, यह एक सच्ची कहानी है जो कि मेरे एक करीबी दोस्त की आप बीती घटना है।  अब मेरा दोस्त बिलकुल ठीक है और अपनी बेटी के साथ ख़ुशी से जीवन जी रहा है। 

कभी कभी ज़िन्दगी ऐसे भी दिन दिखला जाती है जिनकी हम कभी कल्पना भी नहीं कर सकते। पर दोस्तों हमे कभी हिम्मत नहीं हरणी चाहिए।

अलविदा !!! फिर मिलेंगे एक और सच्ची और अच्छी कहानी के साथ।

आप अपने विचार जरूर लिखें।

Comments

Popular posts from this blog

रौशनी - The Light

दोस्तो, आज मैं आपको एक अपनी लिखी हुई कविता से रूबरू करवाता हूँ।  यह कविता मेने साल नवम्बर 14, 2000 में लिखी थी।  उस दिन पंडित जवाहरलाल नेहरू का जन्म दिन था और संयोगवश दिपावली भी उस दिन थी। और उस रात मैं अपने घर की छत पर बैठ कर जगमगाती रौशनी का लुत्फ़ उठा रहा था कि  मेरा मन कुछ उदास था उसदिन। अचानक मुझे यह कविता सूझी।   मेरी कविता का शीर्षक है " रौशनी " जग मग - जग मग जुगनू  जैसी।  चाँद की हो रौशनी।। रंग - बिरंगे फूलोँ जैसी। तारों की हो रौशनी।। मन को भाए - सब  को भाए।  किन दीपों की हो रौशनी।। कभी तो हसाए - कभी तो रुलाए।  जाने कैसी हो तुम रौशनी ।। अगर आप को यह कविता अच्छी लगी तो कृपया अपने विचार लिखें। 

पती - पत्नी में फर्क - The Difference between Husband and Wife

पती - पत्नी में फर्क - इस वाक्य के कई मायने बनते हैं।  असल में यहां पर मैं सिर्फ दो के बारे में ही बात कर रहा हूँ।  पती  - पत्नी की कुशलता में फर्क  पती  - पत्नी के स्वभाव में फर्क  कारण चाहे जो भी हो, अगर दोनों में एक ज्यादा और एक कम है तो दोनों की लाइफ अधूरी है।  फिर चाहे वो दोनों एक दूसरे को कितना ही पसंद करते हों।  असल लाइफ में दोनों समान नहीं होते पर अगर दोनों की आपसी समझ या सोच मिलती है तो एक की कुशलता दूसरे की अकुशलता को कवर  लेती है।  इसी तरहं से अगर पती - पत्नी में एक दूसरे के लिए करुणा भाव है तो एक के गर्म स्वभाव को दूसरे का ठंडा स्वभाव बर्दाश्त कर लेता है और गर्म स्वभाव वाले को भी अपने जैसा करने की कोशिश करता है। 

परफैक्ट रिश्ता - The Perfect Relation

परफैक्ट रिश्ता - सुनने में तो अच्छा लगता है पर क्या सच में कोई रिश्ता परफैक्ट हो सकता है?  इस सवाल का  जवाब मैं आप पर छोड़ता हूँ।   पर मेरे ख़याल में कोई रिश्ता कभी परफैक्ट नहीं हो सकता क्योंकि हर रिश्ते के दो पहलू होते हैं।  एक अच्छा - A good side of Relation एक बुरा - A bad side of Relation अच्छे पहलू में लोग झूठ बोलते हैं, लोगो की झूठी तारीफ़ करते हैं और कई तरहं के झूठे पाखंड करते हैं। इसलिए दूसरों को अच्छे लगते हैं।  बुरे पहलू में लोग सच बोलते हैं,    लोगो की झूठी तारीफ़ नहीं करते और उनकी ज़िन्दगी की किताब एकदम पारदर्शी होती है। पर ऐसे लोग किसी को पसंद नहीं आते।  जो लोग बुरे पहलू में आते हैं, उनका रिश्ता कभी परफैक्ट नहीं होता जबकि होना इसके विपरीत चाहिए। क्योंकि सच बोलना ही ज़िन्दगी है।  मैं तो बुरे पहलू में ही आता हूँ इसलिए कभी किसीको पसंद नहीं आया, ना ही कभी मेरा कोई काम किसी को अच्छा लगा। और तो और मेरी पत्नी और उसके घरवाले भी मुझे पसंद नहीं करते। उनके लिए तो सिर्फ पैसा, रुतबा ही सब कुछ है, चाहे वो किसी को झूठ बोल कर ही हासिल किया हो।    पर मैं अपनी ज़िन्दगी